रविवार, 3 अप्रैल 2011

सुना है चांद पर भी घर बनाने की तमन्ना है

कभी सागर की गहराई में जाने की तमन्ना है
कभी आकाश के तारों को पाने की तमन्ना है
अभी वो सीख ना पाया ज़मीं पे चैन से रहना
सुना है चांद पर भी घर बनाने की तमन्ना है
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट