रविवार, 29 मई 2011

मैं कब पापा जितना बड़ा होऊंगा

जब छोटा था तो
माँ से अक्सर एक ही सवाल पूछता था
मैं कब पापा जितना बड़ा होऊंगा
माँ हंसकर उस बात को टाल जाती थी
फिर जब भी वक़्त मिलता था
तो आईने के सामने
खड़े होकर मैं बड़े होने की
practice भी करता था
अब जब बड़ा हो गया हूँ तो
वापिस उस बचपन को ढूढ़ता हूँ
और अक्सर अपनी उम्र
भूलने की कोशिश भी करता हूँ
लेकिन जब जब भी
आईने के सामने आता हूँ
मेरे सिर के काले बालो
से निकलकर कुछ सफ़ेद
मेरी तरफ देखकर मुझे
मेरी उम्र मुझे बता जाते है ....
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट