बुधवार, 7 सितंबर 2011

तुम यहीं कहीं हो ............

ये प्यार की एक ऐसी दास्तान है जो अभी तक पन्नों पर कलम के सहारे नहीं लिखी गयी थी शायद इससे सामना करने की क्षमता नहीं थी मुझ में... लेकिन आज बड़ी ताकत लगाकर आप लोगों के लिए ये मेरी कलम ने लिख तो दिया पर पता नहीं इस पर आपकी प्रतिक्रिया कैसी रहेगी ये जानने की जरूरत है मुझे ...............धन्यवाद........

आवाज़ देना चाहता था तुम्हें
पर ये जानता हूं मैं
तुम्हें कोई आवाज़ दे
हरगिज़ बर्दाश्त नहीं है तुम्हें
यही सोचकर चुप रह जाता हूं
दिनभर टकटकी लगाये
अपनी खिड़की के ठीक उस पार
तुम्हारी बालकनी में देखता हूं
यह सोचकर की शायद
तुम्हारा दीदार हो जायेगा
लेकिन पिछले कुछ दिनों से
तुम्हारी बालकनी में
धूल की परतें बिछ गयी है
अब समझ गया हूं
तुम यहां नहीं हो आजकल
फिर भी अपनी खिड़की की आड से
झांक लिया करता हूं
तुम्हारी बालकनी में
तुम्हारे पड़ोसी ने
अपने कमरे में
जो ताला लगा रखा है
उस ताले पर
तुम्हारा नाम लिखा है
अब तेरी याद को
अपने अंदर
ज़िंदा रखने का
एक नया अंदाज
मिल गया है

मैं भी खरीद लाया हूं
एक ताला
उसी कम्पनी का
जिस पर
तुम्हारा नाम लिखा है
अब खिड़की की आड से
तुम्हारी बालकनी में
देखना छोड़ दिया है
पर कई दिनों बाद
अनायास हीं आज फिर
तुम्हारी बालकनी में
झाँक लिया है
बालकनी में
कुछ हलचल सी
दिख रही है
अचानक तुम बालकनी में
दिख गयी मुझे
तुम्हारे माथे पर
सिंदूर की लाली है
मैं समझ गया
तुम किसी और की
हो गई हो
लेकिन मेरे दिल के अंदर
जो तुम्हारे होने का ख्याल है
उसे कैसे मिटा सकती हो
और हां
वो तुम्हारे नाम वाला ताला
आज भी मेरे पास है
जो मुझे
एहसास दिलाता रहता है
तुम यहीं हो
मेरे पास यहीं कहीं हो...............
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट