सोमवार, 26 अक्तूबर 2015

ख़ामोशी.....

कहीं कुछ लफ्ज़ छुपे होते हैं खामोशी में भी...
कहीं लफ़्ज़ों में भी एक खामोशी सी होती है....

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट