सोमवार, 26 अक्तूबर 2015

खामोशियाँ.....

आज मैंने एक नया सबक सीखा ज़िन्दगी में।
खामोशियाँ ही बेहतर हैं,
शब्दों से लोग रूठते बहुत है।।

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट