गुरुवार, 28 मई 2015

खामोश आँखें......


वो तो आँखें थी मेरी जो सब सच बयां कर गयी ।
वरना लफ्ज होते तो कब के मुकर गए होते....!

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट