शनिवार, 11 मई 2013

माना की......

माना की चाहत बड़ी थी
पर मेरे इंतजार की भी कोई कीमत थी
हम तो आज भी उन रस्ते पे इंतजार करते बैठे है....
कम्बखत ओ तो पहचानने से भी इंकार करते है......
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट