रविवार, 19 मई 2013

हँसना भी भूल गए.......

हम  तो हँसना  भी भूल  गए.......
मुश्कारना तो याद ही नहीं रहा..........
तेरे सिवा जीने  का बहना भी याद नहीं रहा.....
बिछड़ कर तेरी यादो में.......
अब जीना भी याद ना रहा......
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट