शुक्रवार, 27 अप्रैल 2018

मैंने.....

एक ही दिन में कैसे पढ़ लोगे तुम मुझे......

मैंने ख़ुद को लिखने में ही कई साल लगायें हैं.....

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट