मंगलवार, 14 जून 2016

लौटा दो.....

गर मैं अपनी चाहतों का हिसाब करने जो बैठ जाऊं.....
तुम तो मेरा याद करना भी ना लौटा सकोगे....

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट