मंगलवार, 14 जून 2016

कुछ ज़ख्म....

कुछ ज़ख्म इंसान के कभी नहीं भरते.......
बस इंसान उन्हें छुपाने का हुनर सीख जाता है.....

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट