रविवार, 22 मई 2016

रूठे हुये.....

"आज इतना जहर पिला दो कि सांस तक रुक जाए मेरी,
सुना है कि सांस रुक जाए तोरूठे हुये भी देखने आते हैं .....
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट