सोमवार, 8 जुलाई 2013

जीने को जी करता है.......

आब ना रुलाओ हमें की दर्द बढ़ने सा लगता है.......
सुखी हुयी पलको में नमी सा होने लगता है........

अब तो हसने की चाहत भी ना रही.......
फिर भी तुम्हे देख कर जीने को जी करता है.......
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट