गुरुवार, 20 दिसंबर 2012

बिछड़ गए......

एक एक कर के सब बिछड़ गए...........
अब तो सायद तू भी बिछड़ गया............
बची है तो सिर्फ साशें मेरी..........
सायद ये भी जल्दी ही बिछड़ गए......
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट