बुधवार, 10 फ़रवरी 2016

किसकी खातिर.....

किसकी खातिर अब तू धड़कता है ए-दिल,
अब तो कर आराम, कहानी खत्म हुई हमारी..!

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट