गुरुवार, 9 जुलाई 2015

हार गया हूँ.....

प्रियवर तुमसे हार गया हूं ,
नेह नदी के पार गया हूं ।
जब जब मैंने प्यार किया हैं ,
आशाओं से मार गया हूं ॥

देखा था मैंने इक सपना ,
मानूंगा तुमको मैं अपना ।
झंझावत में पड़ अपनों से ,
छुप कर तेरे द्वार गया हूं ।।

प्रियवर तुमसे हार गया हूं ,
नेह नदी के पार गया हूं ।

पागल मन को बहुत मनाया ,
फिर भी उसकी समझ न आया ।
मन मितवा से घड़ी मिलन की ,
बातों मे मैं टार गया हूं ।।

प्रियवर तुमसे हार गया हूं ,
नेह नदी के पार गया हूं ।।

आखें तुम बिन बनीं बदरिया ,
ढ़ूढ़ रहीं वो अपना संवरिया ।
मीन पिआसी जल मे रह कर ,
“प्रखर” विरह मे जार गया हूं ।।

प्रियवर तुमसे हार गया हूं ,
नेह नदी के पार गया हूं ।। ***

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट