शनिवार, 11 अप्रैल 2015

अपनी कीमत.......

अपनी कीमत उतनी रखिए,
जो अदा हो सके !
अगर अनमोल हो गए तो,
तन्हा हो जाओगे..!
खेल ताश का हो या ज़िन्दगी का,
अपना इक्का तभी दिखाना जब सामने
वाला बादशाह निकाले..
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट