रविवार, 14 दिसंबर 2014

मैं और मेरा अकेला पन.....

दिन समाप्त हुआ नहीं जीवन की घड़ियां
अभी मैं हूँ और साथ मेरे एकाकीपन
यह एकांत वृक्ष और यह संध्या
सभी को तुम्हारे आने का विश्वास
सूनेपन से बंजर हुई मन की धरती पर
तुम सावन बन कर छाओगी
विश्वास मुझे, तुम आओगी, तुम आओग....
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट