रविवार, 7 सितंबर 2014

नींदें.....

खा जाता है उजाला मेरी रात की नींदों को
यूँ रात भर दिए को जलने ना दिया करो....

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट