गुरुवार, 4 सितंबर 2014

यूँ ही...

ना पूछ ऐ  मेरे दोस्त  दिल की बात
की अपने भी जख्म दे जाते हैं

हम छुपा के रखते थे
वो कुरेद के चले जाते हैं।।।

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट