शनिवार, 7 सितंबर 2013

साथ चलो हमारा मित्र बन कर......

मेरे पीछे मत चलो, हो सकता है मैं नेतृत्व ना कर पाऊ……
मेरे आगे चलो हो सकता है मैं अनुगमन कर सकूँ………. 
सबसे अच्छा हमारे साथ चलो हमारा मित्र बन कर 
हमेशा  साथ निभाऊंगा एक मित्र बन कर..........

.

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट