रविवार, 3 जून 2012

मेरे अहसास..................

मैंने महसूस किया है
मानव की हर उन
भावनाओं को
जो उसके अंतर्मन में
छुपी हुई हैं............

मैंने महसूस किया है
हर उस ताकत को
जो मनुष्य को हर समय
घेरे रहती है...........

मैंने महसूस किया है
हर उस खुशी को
जो उन छोटी-छोटी बातों से
मिलती हैं................

मैने महसूस किया है
हर उस गतिविधि को
जो इस ब्रम्हांड में
हर पल होती रहती है..............

और मैने महसूस किया है
उस अनजान शक्ति को
जो जीवन को हर तरह से
नियंत्रित करती है.............
एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट