मंगलवार, 28 फ़रवरी 2012

जिंदगी की तलाश.............


जिंदगी को जिंदगी की तलाश है,
इन आंखों में भी एक आस है।
कानों में भी कुछ सुनने की आस है,
हर किसी को किसी की तलाश है।
बुझते हुए दीये को रोशनी की तलाश है,
पतझड़ को सावन की प्यास है।
ज्येष्ठ के महीने को सावन से आस है,
जिंदगी को हमसे नहीं,
हमें जिंदगी से शिकायत है।
दगा करते हैं हमसे क्यों अपने,
जबकि हमें अपनों से ही आस है।
हमें खुशी की और खुशी को हमारी तलाश है,
जिंदगी को जिंदगी की तलाश है।

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट