शनिवार, 12 मार्च 2016

तन्हां....

माना कि दूरियां कुछ बढ़ सी गयी हैं लेकिन...

तेरे हिस्से का वक्त आज भी...तन्हा ही गुजरता है....

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट