मंगलवार, 8 सितंबर 2015

यूँ ना रूठे कोई.....

दुश्मन के सितम का खौफ नहीं हमको,
हम तो अपनों के रूठ जाने से डरते हैं…

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट